• वेबपेज
  • डॉक्यूमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट

NRI कस्टमर्स के लिए

(पॉलिसी खरीदने के लिए)

(अगर आप हमारे मौजूदा कस्टमर हैं)
  • Contact Image

    कॉल (सोम-शनि, 10am-9pm IST, लोकल कॉल शुल्क लागू)

    +91-8916694100

  • Contact Image

    ईमेल आईडी

    [email protected]

ऑनलाइन पॉलिसी खरीदने के लिए

(नए और जारी एप्लीकेशन)

ब्रांच खोजें

मौजूदा कस्टमर के लिए

(जारी की गई पॉलिसी)

फंड परफॉर्मेंस चेक करें

ULIP प्लान में, इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो में इन्वेस्टमेंट जोखिम पॉलिसीधारक द्वारा वहन किए जाते हैं

ULIP क्या है?

यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान (ULIP) एक प्रकार का जीवन बीमा प्लान है, जो जीवन बीमा और इन्वेस्टमेंट का दोहरा लाभ प्रदान करता है. ULIP के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम का एक हिस्सा विभिन्न मार्केट-लिंक्ड फंड में इन्वेस्ट किया जाता है, जबकि बाकी का हिस्सा जीवन बीमा कवरेज प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाता है.

कोटेशन मुफ्त पाएं

हम अपने कस्टमर की प्राइवेसी का पूरा ध्यान रखते हैं और उन्हें अनावश्यक मैसेज नहीं भेजते हैं.

मैं एच डी एफ सी लाइफ और इसके प्रतिनिधियों को कॉल, ईमेल, SMS या व्हॉट्सऐप के माध्यम से मुझसे संपर्क करने के लिए अधिकृत करता/करती हूं. यह सहमति DNC/NDNC के तहत मेरे रजिस्ट्रेशन को ओवरराइड करती है (इसका मतलब है कि अगर आप किसी डू नॉट डिस्टर्ब लिस्ट में रजिस्टर्ड हैं, तो भी हम आपसे संपर्क कर सकेंगे).

Benefits of ULIP

ULIP क्या है?- विशेषताएं और लाभ

What is ULIP plan
16 फरवरी, 2024

ULIP (यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान) क्या है?

ULIP का पूरा नाम है, यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान. ULIP प्लान, इंश्योरेंस + इन्वेस्टमेंट, दोनों का कॉम्बिनेशन है. इन्वेस्ट की गई राशि का एक छोटा हिस्सा आपके जीवन को सुरक्षित करता है, जबकि बाकी राशि को मार्केट में इन्वेस्ट किया जाता है. पॉलिसीधारक मासिक/वार्षिक रूप से प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं.

परिचय

यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान (ULIP) में इन्वेस्टमेंट, कैपिटल मार्केट से जुड़े जोखिमों के अधीन होता है. इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो में इन्वेस्टमेंट से जुड़ा जो जोखिम होता है, उसकी ज़िम्मेदारी पॉलिसीधारक की होती है. इसलिए, आपको अपनी जोखिम लेने की क्षमता और आवश्यकताओं पर विचार करने के बाद ही अपना इन्वेस्टमेंट ऑप्शन चुनना चाहिए.

एक अन्य बात के रूप में भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लगने वाली राशि का ध्यान रखना है. चाहे आपके रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए हो, आपके स्वास्थ्य के लिए हो, आपके बच्चे की शिक्षा और विवाह के लिए हो या फिर इन्वेस्टमेंट के लिए हो, एच डी एफ सी स्टैंडर्ड लाइफ आपके लक्ष्यों के अनुसार अलग-अलग तरह के यूनिट-लिंक्ड बीमा प्रोडक्ट प्रदान करता है.

फाइनेंशियल आज़ादी की शुरुआत करें!

अपने भविष्य के लिए समृद्धि और सुरक्षा सुनिश्चित करें

बीमा की सुरक्षा के साथ इन्वेस्टमेंट की शक्ति जोड़ें. हमारे ULIP प्लान्स के साथ अपने परिवार को दें एक सुरक्षा कवच और साथ ही बढ़ाएं अपनी बचत

 

 

शर्तें लागू

ULIP कैसे काम करता है?

ULIP निवेशकों को एक ही प्लान से जीवन बीमा पॉलिसी और म्यूचुअल फंड में एक साथ इन्वेस्ट करने का अवसर प्रदान करते हैं. ULIP में इन्वेस्ट की गई राशि को प्रीमियम कहा जाता है. यह राशि दो भागों में विभाजित की जाती है, जिसमें बाज़ार परिदृश्य के अनुसार, एक भाग कर्ज़, और एक भाग इक्विटी या हाइब्रिड म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट किया जाता है. अन्य भाग का उपयोग किसी भी प्रकार की लाइफ कवर प्रदान करने वाली जीवन बीमा पॉलिसी को खरीदने के लिए किया जाता है.

ULIP का इन्वेस्टमेंट वाला भाग म्यूचुअल फंड की तरह ही काम करता है. इसे इक्विटी, डेट (कर्ज़) या इन दोनों के कॉम्बिनेशन में इन्वेस्ट किया जाता है ; आपको प्लान चुनने या प्लान्स के बीच बदलने का विकल्प मिलता है. म्यूचुअल फंड की तरह, आपको अपने निवेश के अनुपात में इकाइयां सौंपी जाती हैं. प्रत्येक यूनिट में दैनिक NAV (नेट एसेट वैल्यू) होती है जो अंतर्निहित एसेट की वैल्यू को दर्शाती है.

यूनिट-लिंक्ड प्लान को प्रोफेशनल फंड मैनेजर्स द्वारा मैनेज किया जाता है जो बाज़ार के उतार-चढ़ावों का बारीक अध्ययन करते हैं और उसके अनुसार आपके प्रीमियम के आवश्यक हिस्से का इन्वेस्ट करते हैं. वे फंड इन्वेस्ट करने के बाद समय-समय पर मार्केट का अध्ययन करते रहते हैं और इन्वेस्टमेंट में बदलाव करते रहते हैं.

पॉलिसी मेच्योर होने के बाद, आपको कुल मेच्योरिटी राशि प्राप्त होगी जिसमें सभी फंड्स में आपके निवेश का कुल शामिल होगा. लेकिन, लाभार्थी की मृत्यु के मामले में, नॉमिनी को फंड वैल्यू के रूप में सम अश्योर्ड या चुकाए गए प्रीमियम का 105% (दोनों में से ज़्यादा) प्राप्त होगा.

सबसे अच्छा ULIP प्लान कैसे चुनें?

अपने पैसे को बढ़ाने के लिए सबसे उत्तम ULIP प्लान चुनने के लिए आप निम्नलिखित कारकों पर ध्यान दे सकते हैं.

  • अपने इन्वेस्टमेंट लक्ष्यों से मेल खाने वाले ULIP प्लान चुनें

    ULIP में निवेश करते समय, आपको इक्विटी, डेट या हाइब्रिड म्यूचुअल फंड में से चुनने का विकल्प मिलेगा. अपनी जोखिम क्षमता और निवेश लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए, सबसे उत्तम फंड चुनें. उदाहरण के लिए, आप मार्केट की अस्थिरता के गंभीर नुकसान का सामना किए बिना सही रिटर्न प्राप्त करने के लिए एक हाइब्रिड फंड का विकल्प चुन सकते हैं.
  • लंबे समय तक ULIP के साथ निवेशित रहें

    ULIP प्लान तभी लाभदायक होते हैं जब आप उनमें लंबे समय तक निवेशित रहें. इसलिए, आपको हमेशा एक ऐसा प्लान चुनना चाहिए जो आपको लंबे समय तक निवेशित रहने की अनुमति दे. लॉन्ग-टर्म ULIP प्लान में, मेच्योरिटी पर रिटर्न के अलावा, आप अपने सम अश्योर्ड को बढ़ाने के लिए परिवार के सदस्यों को शामिल करने वाला लॉयल्टी एडिशन या वेल्थ बूस्टर आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • उत्तम वैल्यू का लाइफ इंश्योरेंस कवर चुनें

    म्यूचुअल फंड निवेश के साथ संपत्ति को बढ़ाने के अलावा, ULIP प्लान का एक अन्य उद्देश्य है जीवन बीमा कवरेज प्रदान करना. यह आपको बच्चों की शादी या शिक्षा जैसे दीर्घकालिक लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करता है. यह लाभार्थी की मृत्यु के मामले में नॉमिनी की वित्तीय आवश्यकताओं को भी पूरा करने में मदद करता है. इसलिए यह ज़रूरी है कि आपको अपनी भविष्य की ज़रूरतों के बारे में स्पष्ट जानकारी हो ताकि आप उनके अनुरूप एक प्लान चुन सकें.
  • ULIP के शुल्कों के बारे में जानें

    किसी भी योजना में निवेश करने से पहले, अतिरिक्त ULIP शुल्कों के बारे में जानने के लिए बीमा कंपनी की वेबसाइट को ध्यान से चेक ज़रूर करें. अगर आप अतिरिक्त शुल्क देखे बिना कोई प्लान चुनते हैं, तो हो सकता है कि आपको प्रीमियम के साथ, इनका भुगतान करना पड़े. इससे आपके खर्चे बढ़ सकते हैं और आपका बजट हिल सकता है. यहां देखें ULIP के पांच मुख्य अतिरिक्त शुल्क, जिनका भुगतान आपको करना पड़ सकता है.
  • मॉर्टेलिटी शुल्क
  • फंड मैनेजमेंट शुल्क
  • प्रीमियम आवंटन शुल्क
  • पॉलिसी एडमिनिस्ट्रेशन शुल्क
  • टैक्स लाभ देखें

    आप आयकर अधिनियम के अनुसार ULIP में निवेश करके कुछ टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं. धारा 80C, 80D और 80CCC, के अनुसार, आप जीवन बीमा के प्रीमियम के भुगतान पर टैक्स लाभ पा सकते हैं. आप धारा 10 (10D) के अनुसार मेच्योरिटी राशि पर भी टैक्स छूट का लाभ उठा सकते हैं.#

ये किस प्रकार के इन्वेस्टर के लिए सबसे सही हैं?

  • अपने इन्वेस्टमेंट को बड़े ध्यान से ट्रैक करने वाले इन्वेस्टर के लिए

    यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान, पॉलिसी लेने वाले इन्वेस्टर को अपने पोर्टफोलियो को बहुत ध्यान से ट्रैक करने की सुविधा देते हैं. वे अलग-अलग जोखिम-रिटर्न वाले फंड में इन्वेस्ट की गई आपकी पूंजी को एक फंड से दूसरे फंड में ले जाने की भी सुविधा देते हैं.
  • मध्यम से लंबी अवधि तक इन्वेस्टमेंट करने वाले व्यक्ति के लिए

    ULIP (यूनिट इंश्योरेंस लिंक्ड प्लान) ऐसे व्यक्तियों के लिए सही ऑप्शन है, जो लंबे समय तक इन्वेस्ट करने के लिए तैयार हैं.
  • अलग-अलग जोखिम प्रोफाइल वाले इन्वेस्टर के लिए

    ऑफर किए जाने वाले सभी सात फंड में, इक्विटी में इन्वेस्टमेंट की हिस्सेदारी शून्य से अधिकतम 100 प्रतिशत तक हो सकती है. इसीलिए, जोखिम न लेने वाले इन्वेस्टर से लेकर अधिक जोखिम की क्षमता वाले इन्वेस्टर तक - सभी तरह के इन्वेस्टर के लिए अलग-अलग फंड के ऑप्शन उपलब्ध हैं.
  • सभी उम्र के इन्वेस्टर के लिए

    इस प्लान कैटेगरी में अलग-अलग प्रकार के प्लान ऑफर किए जाते हैं, जिन्हें आपकी मौजूदा उम्र और उस समय आपकी आवश्यकताओं और फाइनेंशियल ज़िम्मेदारियों के आधार पर चुना जा सकता है.

ULIP प्लान की संरचना कैसी होती है?

यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान (ULIP) में, आपके द्वारा जमा किए प्रीमियम को एलोकेशन शुल्क काटने के बाद आपके पसंदीदा फंड में इन्वेस्ट किया जाता है. साथ ही फंड मैनेजिंग, पॉलिसी एडमिनिस्ट्रेशन और इंश्योरेंस कवर प्रदान करने के लिए कुछ यूनिट कैंसल करके फंड से शुल्क काटे जाते हैं.

फंड के हर एक यूनिट की वैल्यू, इन्वेस्ट किए गए फंड की कुल वैल्यू को कुल यूनिटों की संख्या से भाग देकर प्राप्त किया जाता है.

ULIP के फायदे?

  1. मार्केट लिंक्ड रिटर्न
  2. जीवन को सुरक्षित करने वाला इन्वेस्टमेंट और सेविंग
  3. सुविधाजनक
  1. मार्केट लिंक्ड रिटर्न:

    यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान, आपको मार्केट-लिंक्ड रिटर्न कमाने का मौका देते हैं, क्योंकि आपके द्वारा जमा किए गए प्रीमियम का कुछ हिस्सा मार्केट लिंक्ड फंड में भी इन्वेस्ट किया जाता है, यह इन्वेस्ट मार्केट में अलग-अलग अनुपात में बहुत सी जगहों पर किया जाता है, जिनमें इक्विटी और डेट फंड भी शामिल हैं.
  2. जीवन की सुरक्षा, इन्वेस्टमेंट और सेविंग

    यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान, मार्केट-लिंक्ड रिटर्न के साथ जीवन बीमा और सेविंग का दोहरा लाभ देता है. इसमें आपको अपने फंड को इन्वेस्ट करके फाइनेंशियल रूप से सुरक्षित रहने के साथ-साथ ज़्यादा रिटर्न पाने का मौका भी मिलता है. यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान में किया गया इन्वेस्ट, लगातार सेविंग और इन्वेस्ट करने की आदत डालने के लिए प्रोत्साहित करता है, जिससे आप लंबे समय में फंड जमा कर सकते हैं.
  3. सुविधाजनक

    एच डी एफ सी लाइफ विभिन्न ULIP (यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान) प्रदान करता है, जो आपके लिए पूरी तरह से सही हैं और आपको विशिष्ट फाइनेंशियल उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद करते हैं.
    • इसमें आपको समय के हिसाब से बदलती अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए इन्वेस्टमेंट फंड में स्विच करने का विकल्प भी मिलता है.
    • लागू शुल्क और शर्तों के आधार पर आपके फंड से आंशिक राशि निकालने की सुविधा.
    • शर्तों के आधार पर पॉलिसीधारक जब चाहे अतिरिक्त राशि (रेगुलर प्रीमियम से अधिक) इन्वेस्ट कर सकते हैं, इसके लिए एक ही प्रीमियम लिया जाएगा.

ULIP की विशेषताएं

  • सिंगल प्रीमियम

    इसमें पॉलिसीधारक को पॉलिसी अवधि की शुरुआत में ही पूरी प्रीमियम राशि का एकमुश्त भुगतान करना होता है.
  • रेगुलर प्रीमियम भुगतान (वार्षिक, अर्ध-वार्षिक या मासिक)

    इसमें पॉलिसीधारक को समय-समय तय प्रीमियम का भुगतान करता है, इसमें प्रीमियम के भुगतान के लिए चुनी गई अवधि जैसे- वार्षिक, अर्ध वार्षिक या मासिक के आधार पर ही प्रीमियम देना होता है.
  • प्रीमियम के लिए भुगतान करने वाले वर्षों की संख्या

    यह आपके द्वारा चुनी गई पॉलिसी की अवधि पर निर्भर करता है. अधिकतर इस तरह की पॉलिसी की अवधि और प्रीमियम के भुगतान के लिए वर्षों की संख्या (रेगुलर प्रीमियम के मामले में) एक जैसी ही होती है. हालांकि, कुछ पॉलिसी में इंश्योर्ड व्यक्ति को प्रीमियम के भुगतान के लिए वर्षों की संख्या चुनने का विकल्प भी मिलता है.

ULIP में फंड विकल्प

ULIP में इन्वेस्ट करते समय आप निम्नलिखित में से किसी भी प्रकार के फंड का विकल्प चुन सकते हैं.

  • बैलेंस्ड या हाइब्रिड फंड

    बैलेंस्ड या हाइब्रिड फंड, दोनों इक्विटी और डेट में इन्वेस्ट करते हैं. वे अपनी इक्विटी फंड जैसी विशेषताओं के कारण एक बढ़ते मार्केट में उच्च रिटर्न पैदा कर सकते हैं. लेकिन वहीं, इक्विटी फंड्स के विपरीत, यहां निवेशकों को कोई बड़ा नुकसान होने की संभावना कम है. इसलिए, ये मध्यम जोखिम क्षमता वाले निवेशकों के लिए एक अच्छा इन्वेस्टमेंट विकल्प है.
  • ग्रोथ या इक्विटी फंड

    ये फंड इक्विटी और इक्विटी से संबंधित इंस्ट्रूमेंट्स में इन्वेस्ट करते हैं और इसलिए बाज़ार की अस्थिरता से बहुत प्रभावित होते हैं. अगर आप अपने पैसे को तेज़ी से बढ़ाना चाहते हैं और इसके लिए उच्च जोखिम ले सकते हैं, तो आप इक्विटी या ग्रोथ म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर सकते हैं.
  • डेब्ट फंड

    ये फंड सरकारी प्रतिभूतियों, कॉर्पोरेट बांड और अन्य कम जोखिम वाले इंस्ट्रूमेंट्स जैसे लोन में इन्वेस्ट करते हैं. ये स्थिर और नियमित आय प्रदान करते हैं. डेट फंड अपेक्षाकृत सुरक्षित निवेश होते हैं जो आमतौर पर बाज़ार के उतार-चढ़ाव से प्रभावित नहीं होते. इससे ये कम जोखिम क्षमता वाले निवेशकों के लिए आदर्श विकल्प बन जाते हैं.
  • कैश फंड

    ये फंड मनी मार्केट के इंस्ट्रूमेंट्स, बैंक डिपॉजिट और नकदी में इन्वेस्ट करते हैं. इसलिए इस म्यूचुअल फंड को मनी मार्केट म्यूचुअल फंड भी कहा जाता है. फंड मैनेजर इस फंड को मैनेज करने के लिए, कर्ज़ की अवधि को एडजस्ट करके जोखिम कारकों को नियंत्रित करते हैं ताकि उच्च रिटर्न बनाए जा सके. 

Ulip शुल्क

एच डी एफ सी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस द्वारा आपको दिए जाने वाले लाभों और एडमिनिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान करने के बदले आपकी पॉलिसी से निम्नलिखित शुल्क काटे जाते हैं -

  • एडमिनिस्ट्रेशन शुल्क

    आपसे हर महीने आपकी पॉलिसी के एडमिनिस्ट्रेशन के लिए शुल्क लिया जाता है. आपके द्वारा चुने गए हर एक फंड से शुल्क के अनुपात में यूनिट को कैंसल करके एडमिनिस्ट्रेशन शुल्क काटा जाता है.
  • फंड मैनेजमेंट शुल्क

    यह शुल्क फंड मैनेज करने में आने वाले खर्चों को पूरा करने के लिए लिया जाता है. इसे फंड की वैल्यू से प्रतिशत के रूप में लिया जाता है और साथ ही इसे फंड के नेट एसेट वैल्यू बनने से पहले ही काट लिया जाता है.
  • स्विच शुल्क

    आप अपनी बदलती ज़रूरतों और लक्ष्यों के हिसाब से उपलब्ध फंड में स्विच कर सकते हैं. एक पॉलिसी वर्ष में, स्विच करने की एक निश्चित संख्या के लिए कोई शुल्क नहीं लगता. उस निश्चित संख्या के बाद अगर आप स्विच करते हैं, तो उसके लिए एक निश्चित शुल्क लगेगा. इन स्विच का शुल्क आपके द्वारा चुने गए हर एक फंड में से शुल्क के अनुपात में यूनिट कैंसल करके ले लिया जाता है.
  • सरेंडर शुल्क

    ये शुल्क फंड की यूनिट से समय से पहले कैश निकालने पर लगाए जाते हैं. ये शुल्क फंड वैल्यू के प्रतिशत के रूप में काटे जाते हैं, यह शुल्क इस पर निर्भर करता है कि पॉलिसी किस वर्ष में सरेंडर की गई है.
  • मॉर्टेलिटी शुल्क

    ये शुल्क पॉलिसीधारक की उम्र और कवर की राशि के आधार पर इंश्योर्ड व्यक्ति को मृत्यु कवर का लाभ देने के लिए काटे जाते हैं.
  • प्रीमियम एलोकेशन शुल्क

    यह शुल्क आपके द्वारा भरे गए प्रीमियम के एक निश्चित प्रतिशत के रूप में काटा जाता है, और आमतौर पर पॉलिसी के शुरुआती वर्षों में इसकी दर अधिक होती है. पॉलिसी के वेरिएंट (सिंगल प्रीमियम प्लान या रेगुलर प्रीमियम पॉलिसी), प्रीमियम की राशि, प्रीमियम की फ्रीक्वेंसी और भुगतान के माध्यम के आधार पर यह शुल्क अलग-अलग होता है.
  • आंशिक निकासी शुल्क

    पॉलिसी की अवधि के तीन साल पूरे हो जाने के बाद पॉलिसीधारक फंड से एकमुश्त निकासी कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए पहले से तय शर्तें लागू होती हैं. पॉलिसी से एकमुश्त निकासी पर कुछ शुल्क भी लगते हैं, इन शुल्कों के बारे में पॉलिसी के ब्रोशर में लिखा रहता है.

फंड के बीच स्विच करना

एच डी एफ सी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस आपको यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान के तहत उपलब्ध फंड के बीच स्विच करने की सुविधा प्रदान करता है.

मार्केट में उतार-चढ़ाव आने पर या ब्याज दर के ऊपर नीचे होने पर, आप इक्विटी और डेट फंड के बीच भी स्विच कर सकते हैं. कभी-कभी आपकी फाइनेंशियल स्टैंडिंग, लायबिलिटी या रिस्क प्रोफाइल में बदलाव आने पर परिवर्तन के अनुसार आपको अपना इन्वेस्टमेंट बदलना पड़ता है.

निकासी

आप अपनी पॉलिसी के फंड से एक निश्चित अवधि पूरी होने के बाद आंशिक रूप से पैसे निकाल निकाल सकते हैं, लेकिन इसके लिए आंशिक निकासी शुल्क लागू होगा. निकाली जाने वाली राशि पहले से तय निकासी की राशि की सीमा के बराबर होनी चाहिए और पैसे निकाले जाने के बाद फंड में इतनी राशि बचे कि वह न्यूनतम फंड वैल्यू से कम न हो.
आप मेच्योरिटी की तिथि से पहले भी अपनी पॉलिसी से पूरा पैसा निकाल सकते हैं. लेकिन ऐसा करने पर सरेंडर शुल्क लागू होगा.

ULIP में इन्वेस्ट करें

 

ULIP के लाभ

आइए, देखते हैं कि ULIP प्लान के लाभ कैसे आपको फायदा पहुंचाते हैं:

  1. यह आपकी बचत करने की आदत बनाता है

    जब आप हर महीने ULIP में पैसे देते हैं, तो ऐसा करने पर आप अनुशासित रूप से बचत करने की आदत अपनाते हैं. जैसा कि हम सबको पता है कि बचत करना हर सफल लॉन्ग-टर्म फाइनेंशियल प्लान के मुख्य बातों में से सबसे अधिक महत्व रखता है. जब आप समय पर रेगुलर प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो आप न केवल अपने प्रियजनों के फाइनेंशियल भविष्य को सुरक्षित करते हैं, बल्कि आने वाले समय के लिए पर्याप्त धन भी बनाते हैं.

  2. सुरक्षा देता है

    सबसे महत्वपूर्ण ULIP के लाभ में से एक यह है कि यह इन्वेस्टमेंट विकल्पों के साथ लाइफ कवर भी प्रदान करता है. इसलिए, आपके लिए संपत्ति बनाने करने के अलावा, ये प्लान यह सुनिश्चित भी करते हैं कि अगर आपके साथ कोई अप्रत्याशित घटना होती है, तो आपके परिवार की फाइनेंशियल देखभाल की जाएगी.

  3. सुविधाजनक इन्वेस्टमेंट

    ULIP में आप अपने फाइनेंस को पूरी तरह से कंट्रोल कर सकते हैं. आप किसी भी समय अपने फंड्स को स्विच करने का विकल्प चुन सकते हैं. इसका मतलब यह है कि आप इक्विटी फंड से बैलेंस्ड और डेट फंड में अपने पैसे डाल सकते हैं या डेट और बैलेंस्ड फंड से इक्विटी फंड में पैसे डाल सकते हैं. इसके अलावा, आप भविष्य में मिलने वाले प्रीमियम को अपनी पसंद के किसी अन्य फंड में भी डाल सकते हैं. अगर आप बाद में ज़्यादा पैसे निवेश करना चाहते हैं, तो आप अपने ULIP को टॉप-अप भी कर सकते हैं. सबसे ज़रूरी बात - कुछ मामलों में आपको फाइनेंशियल एमरज़ेंसी के लिए अपने निवेश में से कुछ हिस्सा निकालने का अवसर भी मिलता है.

  4. टैक्स लाभ

    अधिकांश इन्वेस्टमेंट और जीवन बीमा प्रोडक्ट्स की तरह आपके ULIP में किए गए इन्वेस्टमेंट पर भी टैक्स लाभ मिलते हैं. आपके द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम और आपको मिलने वाले रिटर्न, दोनों पर क्रमशः इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80c# और 10d# के अनुसार टैक्स से छूट दी जा सकती है.. इसके अलावा, अगर आप एक फंड से दूसरे फंड में अपने पैसे को ट्रांसफर करते हैं, तो आपको इसके लिए भी कोई अतिरिक्त टैक्स नहीं देना होगा.

  5. वृद्धि की क्षमता

    ULIP के लाभ बहुत हैं. इन्वेस्टमेंट करने वाले लोगों में इसकी मांग बने रहने का एक कारण इसकी वृद्धि की क्षमता भी है. ये प्लान आपको अपने पैसे में बढ़ोत्तरी करने के लिए, मार्केट के अलग-अलग क्षेत्रों जैसे-डेट और इक्विटी फंड आदि में इन्वेस्ट की सुविधा देते हैं. इसमें मिलने वाले रिटर्न से लॉन्ग-टर्म फाइनेंशियल लक्ष्यों को पाने में आपको मदद मिलती है.

  6. समय के साथ-साथ अधिक लाभ

    जितने अधिक समय तक ULIP में आप अपने इन्वेस्ट को बनाए रखते हैं, उतने ही अधिक समय तक आप लॉयल्टी एडिशन या वेल्थ बूस्टर जैसे बोनस का लाभ उठा सकते हैं. इसमें इन्वेस्ट करने के बाद, आपको इसे लंबे समय तक बनाए रखना चाहिए.

  7. ULIP के इनकम टैक्स लाभ

    आप जब ULIP खरीदते हैं, तो आपके मन में दो लक्ष्य होते हैं. सबसे पहले तो आप अपने पैसों को इन्वेस्ट करके अपनी पूंजी बढ़ाना चाहते हैं. और दूसरा यह कि आप अपने परिवार को फाइनेंशियल रूप से सुरक्षित करने के लिए लाइफ कवर प्राप्त करना चाहते हैं. लेकिन अच्छी बात यह है कि आप ULIP पर कुछ टैक्स लाभ भी पा सकते हैं. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के अनुसार, आपके द्वारा चुकाया गया प्रीमियम ULIP में टैक्स छूट के लिए पात्र है, जिसकी राशि प्रति वर्ष ₹1,50,000 तक है. इस ULIP टैक्स लाभ का फायदा उठाने के लिए, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका सम अश्योर्ड आपके वार्षिक प्रीमियम का कम से कम 10 गुणा है. अगर यह आवश्यकता पूरी नहीं होती है, तो मेच्योरिटी लाभ पर इनकम टैक्स से छूट नहीं मिलेगी और प्रीमियम पर लागू टैक्स लाभ आपके कुल सम अश्योर्ड के 10% पर दिया जाएगा.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. ULIP क्या है और यह कैसे काम करता है?

    यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान (ULIP), फाइनेंशियल समाधान उपलब्ध कराने वाली पॉलिसी की एक ऐसी कैटेगरी है, जिसमें फाइनेंशियल लक्ष्यों की पूर्ति के साथ-साथ फाइनेंशियल सुरक्षा का दोहरा लाभ भी मिलता है. आपका यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान कैपिटल मार्केट से लिंक होता है और इसमें आप अपनी जोखिम क्षमता के अनुसार इक्विटी या डेट फंड में अपने यूनिट को इन्वेस्ट कर सकते हैं. ULIP आमतौर पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन के लिए खरीदे जाते हैं और साथ ही ये प्रोटेक्शन कवर भी देते हैं.

  2. ULIP में इन्वेस्ट करने का सही समय क्या है?

    ULIP में इन्वेस्ट करने के लिए हमेशा ही अच्छा समय होता है, लेकिन आप जितनी जल्दी इसमें इन्वेस्ट करना शुरू करेंगे उतना ही बेहतर है. ऐसा करना इसलिए भी बेहतर है, क्योंकि ऐसा करने पर अपने पैसे में बढ़ोत्तरी करने और अपने फाइनेंशियल लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए आपके पास अधिक समय होगा. आप अपनी उम्र, जोखिम उठाने की क्षमता और आप कितना रिटर्न कमाना चाहते हैं, इन तीनों के आधार पर इन्वेस्ट करने के लिए अपनी पसंद का फंड चुन सकते हैं.

  3. मैं अपने ULIP के रिटर्न को कैसे अधिकतम करूं?

    अपने रिटर्न में बढ़ोत्तरी करने के लिए आप इन आसान चरणों को अपना सकते हैं. ये चरण हैं:

    1. जल्दी शुरू करें
    2. लगातार इन्वेस्ट करें
    3. समय पर अपने प्रीमियम का भुगतान करें
    4. ऑफर की जाने वाली इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटजी का लाभ उठाएं और विभिन्न फंड्स में इन्वेस्टमेंट करें
    5. बदलाव करने के लिए हर 6 महीने में अपने इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो की जांच करते रहें
    6. आपके इन्वेस्टमेंट को मज़बूत बनाने के लिए टॉप-अप जोड़ें
    7. टैक्स लाभ उठाने के लिए बीमा और इन्वेस्टमेंट का अनुपात बनाए रखें.
  4. ULIP में फंड वैल्यू क्या होती है?

    A: जब आप ULIP खरीदते हैं, तो आपके पास अपनी जोखिम क्षमता और फाइनेंशियल लक्ष्यों के आधार पर बहुत से फंड में इन्वेस्ट करने का मौका होता है. फंड वैल्यू आपके पास मौजूद सभी फंड यूनिट्स की कुल कीमत होती है. उदाहरण के लिए, आपके पास 10,000 यूनिट्स हैं. और हर यूनिट की कीमत ₹20 है, तो इसका मतलब है कि आपकी कुल फंड वैल्यू 10,000 x ₹20 = ₹2,00,000 है.

  5. ULIP में इन्वेस्ट करते समय आपको क्या ध्यान में रखना चाहिए?

    1. लागू शुल्क
    2. मेच्योरिटी से पहले सरेंडर करने पर शुल्क
    3. इन्वेस्टमेंट फंड का विकल्प
    4. विशेषताएं और लाभ
    5. सीमाएं और एक्सक्लूज़न
    6. लैप्स करना और इसके परिणाम
    7. अन्य डिसक्लोज़र
  6. ULIP के कुछ लाभ क्या हैं?

    1. मार्केट लिंक्ड रिटर्न

      यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान, आपको मार्केट-लिंक्ड रिटर्न कमाने का मौका देते हैं, क्योंकि आपके द्वारा जमा किए गए प्रीमियम का कुछ हिस्सा मार्केट लिंक्ड फंड में भी इन्वेस्ट किया जाता है, यह इन्वेस्ट मार्केट में अलग-अलग अनुपात में बहुत सी जगहों पर किया जाता है, जिनमें इक्विटी और डेट फंड भी शामिल हैं.
    2. जीवन की सुरक्षा, इन्वेस्टमेंट और सेविंग

      यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान, मार्केट-लिंक्ड रिटर्न के साथ जीवन बीमा और सेविंग का दोहरा लाभ देता है. इसमें आपको अपने फंड को इन्वेस्ट करके फाइनेंशियल रूप से सुरक्षित रहने के साथ-साथ ज़्यादा रिटर्न पाने का मौका भी मिलता है. यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान में किया गया इन्वेस्ट, लगातार सेविंग और इन्वेस्ट करने की आदत डालने के लिए प्रोत्साहित करता है, जिससे आप लंबे समय में फंड जमा कर सकते हैं.
    3. सुविधाजनक

      एच डी एफ सी लाइफ विभिन्न ULIP (यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान) प्रदान करता है, जो आपके लिए पूरी तरह से सही हैं और आपको विशिष्ट फाइनेंशियल उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं.
      • इसमें आपको समय के हिसाब से बदलती अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए इन्वेस्टमेंट फंड में स्विच करने का विकल्प भी मिलता है.
      • लागू शुल्क और शर्तों के आधार पर आपके फंड से आंशिक राशि निकालने की सुविधा.
      • शर्तों के आधार पर पॉलिसीधारक जब चाहे अतिरिक्त राशि (रेगुलर प्रीमियम से अधिक) इन्वेस्ट कर सकते हैं, इसके लिए एक ही प्रीमियम लिया जाएगा.

एच डी एफ सी लाइफ के ULIP

ULIP में मिलने वाले बहुत से लाभों को जानने के बाद, आपको अपनी उम्र और जीवन के विभिन्न चरणों से संबंधित लक्ष्यों के आधार पर अपने लिए सही प्लान चुनने की सलाह दी जाती है.

यूनिट लिंक्ड बीमा प्लान आपको विभिन्न प्रकार के सुविधाजनक विकल्प प्रदान करते हैं, जैसे

Talk to an Advisor right away

समझ नहीं आ रहा कि कौन सा बीमा लें?

एडवाइज़र से
अभी बात करें

Talk to an Advisor right away

हम आपकी ज़रूरतों के आधार पर सबसे उत्तम बीमा प्लान चुनने में आपकी मदद करते हैं

Francis Rodrigues फ्रांसिस रॉड्रिग्स

फ्रांसिस रॉड्रिग्स के पास बीमा क्षेत्र में एक दशक का लंबा अनुभव है, और वे एच डी एफ सी लाइफ में SVP, ई-कॉमर्स और डिजिटल मार्केटिंग की भूमिका में ऑनलाइन सेल्स चैनल के साथ-साथ डिजिटल और परफॉर्मेंस मार्केटिंग का प्रबंधन करते हैं. 2 दशकों के करियर में उन्हें शुरुआत से सेल्स चैनल और फंक्शनल टीम स्थापित करने का अच्छा खासा अनुभव रहा है.

LinkedIn profile

Author Profile लेखक:
Vishal Subharwal विशाल सुभरवाल

विशाल सुभरवाल एच डी एफ सी लाइफ में स्ट्रेटजी, मार्केटिंग, ई-कॉमर्स, डिजिटल बिज़नेस और स्थिरता वाले पहलों का नेतृत्व करते हैं. वे पूरे संगठन के लिए स्ट्रेटजी बनाने और इसका सफल कार्यान्वन सुनिश्चित करने के लिए ज़िम्मेदार हैं.

LinkedIn profile

Reviewed By समीक्षाकर्ता:

ULIP बीमा के बारे में सभी जानकारी पाएं.

हम आपको जीवनभर के लिए सही इंश्योरेंस लेने का फैसला करने में मदद करते हैं.

HDFC life
HDFC life

HDFC लाइफ

जीवन बीमा एक्सपर्ट द्वारा रिव्यू किया गया

एच डी एफ सी लाइफ एक भरोसेमंद जीवन बीमा पार्टनर है

हम एचडीएफसी लाइफ में नए प्रोडक्ट और सर्विसेज़ प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो व्यक्तियों को 'गर्व का जीवन' जीने में सक्षम बनाते हैं. हम दो दशकों से अधिक समय से जीवन बीमा प्लान - प्रोटेक्शन, पेंशन, सेविंग, इन्वेस्टमेंट, एन्युटी और हेल्थ प्रदान कर रहे हैं.

Ulip Plans Popular Search

लोकप्रिय खोजें

#उपरोक्त टैक्स लाभ इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80C और सेक्शन 10(10D) के तहत निर्दिष्ट शर्तों के अधीन हैं.

ऊपर दिए गए विवरण इनकम टैक्स के मौजूदा नियमों के अनुसार हैं. टैक्स कानून समय-समय पर बदलाव के अधीन हैं. कस्टमर से अनुरोध है कि वह इनकम टैक्स कानून के तहत आने वाली अपनी पर्सनल टैक्स देयताओं के संबंध में अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट से या पर्सनल टैक्स सलाहकार से टैक्स सलाह लें.

यूनिट लिंक्ड बीमा प्रॉडक्ट कॉन्ट्रैक्ट के पहले पांच वर्षों के दौरान कोई लिक्विडिटी प्रदान नहीं करते हैं. पॉलिसीधारक, यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्रोडक्ट में इन्वेस्ट की गई राशि को पांचवें वर्ष के अंत तक पूरी तरह से या आंशिक रूप से नहीं निकाल पाएंगे या पॉलिसी को सरेंडर नहीं कर पाएंगे.

यूनिट लिंक्ड लाइफ इंश्योरेंस प्रॉडक्ट, आम बीमा प्रॉडक्ट से अलग होते हैं और जोखिम कारकों के अधीन होते हैं. यूनिट लिंक्ड लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी में भुगतान किए गए प्रीमियम, कैपिटल मार्केट से जुड़े इन्वेस्टमेंट जोखिमों के अधीन हैं और यूनिट की NAV, फंड के प्रदर्शन और कैपिटल मार्केट को प्रभावित करने वाले कारकों के आधार पर ऊपर या नीचे जा सकती है और बीमित व्यक्ति अपने निर्णयों के लिए स्वयं जिम्मेदार होगा. एच डी एफ सी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड केवल बीमा कंपनी का नाम है, कंपनी का नाम, कॉन्ट्रैक्ट का नाम किसी भी तरह से कॉन्ट्रैक्ट की क्वालिटी, उसकी भविष्य की संभावनाओं या रिटर्न को नहीं दर्शाता है. कृपया अपने बीमा एजेंट से या जिनसे भी आप बीमा ले रहे हैं, उनसे या बीमा प्रदाता के पॉलिसी डॉक्यूमेंट के माध्यम से, संबंधित जोखिम और लागू होने वाले शुल्कों के बारे में जान लें. इस कॉन्ट्रैक्ट के तहत ऑफर किए जाने वाले अलग-अलग फंड केवल फंड के नाम हैं और ये किसी भी तरह इन प्लान की गुणवत्ता और भविष्य में उनके प्रॉस्पेक्ट और रिटर्न को नहीं दर्शाते हैं.

ARN - MC/12/23/6995-HI