• वेबपेज
  • डॉक्यूमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट
  • एच डी एफ सी लाइफ क्लासिकएश्योर प्लसइन्वेस्टमेंट

NRI कस्टमर्स के लिए

(पॉलिसी खरीदने के लिए)

(अगर आप हमारे मौजूदा कस्टमर हैं)

ऑनलाइन पॉलिसी खरीदने के लिए

(नए और जारी एप्लीकेशन)

ब्रांच खोजें

मौजूदा कस्टमर के लिए

(जारी की गई पॉलिसी)

फंड परफॉर्मेंस चेक करें

कंपाउंड इंटरेस्ट कैलकुलेटर


कंपाउंडिंग तब होता है जब आप अपने इन्वेस्टमेंट पर एक निश्चित अवधि में ब्याज अर्जित करते हैं, जिसके कारण आपकी आय में वृद्धि होती है. कंपाउंडिंग की शक्ति आपकी आय को बढ़ाती है और इससे आपके इन्वेस्टमेंट में वृद्धि होती है. यहां पर इसे बेहतर तरीके से समझाया गया है. शुरुआती इन्वेस्टमेंट (मूलधन राशि) पर ब्याज जोड़ा जाता है, यह कंपाउंड ब्याज होता है. क्योंकि ब्याज की राशि शुरुआती इन्वेस्टमेंट में जोड़ दी जाती है और नए ब्याज की गणना इस राशि पर की जाती है, इसलिए इन्वेस्टमेंट बढ़ता रहता है, क्योंकि यह प्रोसेस पूरी इन्वेस्टमेंट अवधि के दौरान जारी रहती है.

कंपाउंड इंटरेस्ट कैलकुलेटर की तरह ही, इन्वेस्टमेंट कैलकुलेटर भी उसी सिद्धांत पर काम करता है और आपको कुछ आसान चरणों में आपके इन्वेस्टमेंट पर मिलने वाले रिटर्न की गणना करने में मदद करता है. अपने रिटायरमेंट कॉर्पस की गणना करने के लिए आप रिटायरमेंट कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं और अगर आप जानना चाहते हैं कि आपको कितनी पेंशन की ज़रूरत पड़ेगी, तो आप पेंशन कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं.

Compound Interest Calculator

अभी कैलकुलेट करें

20 5 99
20 5 99
8 1% 30%

आपके रिटर्न

आपका 20 वर्ष के बाद ₹ 7.50 लाख का इन्वेस्टमेंट बढ़कर हो जाएगाः
₹ 19.27 लाख* @ 8% प्रति वर्ष.

*यह कैलकुलेटर इसलिए दिया गया है ताकि आप अपने रिटायरमेंट की प्लानिंग कर सकें और आपको रिटायरमेंट पर मिलने वाले बेनिफिट का अनुमान लगाने में मदद मिल सके. इसे केवल जानकारी/शिक्षा के उद्देश्य से डिज़ाइन किया गया है. इस कैलकुलेटर के द्वारा प्रस्तुत परिणाम काल्पनिक हैं और आपके द्वारा प्रदान की गई जानकारी/सूचनाओं पर आधारित हैं और यह आपके रिटायरमेंट लाभों के लिए बचत के महत्व को समझने और उसे प्लान करने हेतु मार्गदर्शन करता है. कृपया इसे प्रोडक्ट या परफॉर्मेंस के लिए इन्वेस्टमेंट सलाह या प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष आग्रह न मानें. हालांकि, इस कैलकुलेटर को तैयार करने में पूरी सावधानी बरती गई है, फिर भी एच डी एफ सी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड या इसके निदेशक, कर्मचारी, सहयोगी या प्रतिनिधि जानकारी की पूर्णता या सटीकता की कोई गारंटी नहीं देते हैं और इस कैलकुलेटर के कारण होने वाले किसी भी दायित्व, नुकसान, क्षति या इस पर भरोसा करके किए गए किसी भी कार्य के लिए जिम्मेदार नहीं होंगे. इस कैलकुलेटर के माध्यम से प्रदान की गई गणनाओं को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से स्कीम या स्कीम के परफॉर्मेंस के लिए आग्रह नहीं माना जाएगा. आपसे अनुरोध है कि आप किसी भी प्रकार का निवेश करने से पहले अपने फाइनेंशियल सलाहकार से परामर्श करें.

कंपाउंड इंटरेस्ट क्या होता है?

What is Compound Interest?

शुरुआती मूलधन के आधार पर लोन या डिपॉजिट पर कैलकुलेट किए गए ब्याज और पिछली अवधि के सामूहिक ब्याज को कंपाउंड इंटरेस्ट कहा जाता है. यह मूल रूप से 'पहले ब्याज के तौर पर कमाई गई राशि पर प्राप्त ब्याज' होता है. इससे आपकी राशि और ब्याज में साधारण ब्याज की तुलना में अधिक तेज़ी से बढ़ोतरी होती है, क्योंकि साधारण ब्याज को केवल मूलधन पर कैलकुलेट किया जाता है.

कंपाउंड इंटरेस्ट में जिस दर पर ब्याज मिलता है, वह दर फ्रीक्वेंसी पर निर्भर करती है - कंपाउंडिंग अवधि की संख्या जितनी अधिक होगी, कंपाउंड इंटरेस्ट उतना अधिक होगा. उदाहरण के लिए, अगर आप 10% वार्षिक ब्याज कमाते हैं, तो एक वर्ष के बाद ₹ 100 के डिपॉजिट पर आपको ₹ 10 मिलेंगे. उसके बाद के वर्षों में क्या होगा? यहां कंपाउंड इंटरेस्ट काम आता है. आपको अपने डिपॉजिट पर ब्याज मिलेगा, और आपको मिले ब्याज पर भी आपको ब्याज मिलेगा.

आप अपनी राशि को जीतने अधिक समय तक डिपॉजिट रखेंगे, वह उतनी ही अधिक बढ़ेगी, क्योंकि कंपाउंड इंटरेस्ट समय के साथ बढ़ता जाता है, इसका मतलब यह है कि समय के साथ-साथ आपकी राशि बढ़ती जाएगी. अगर आप कंपाउंड पर किसी लोन का रीपेमेंट कर रहे हैं, तो आपको ब्याज के भुगतान को अनदेखा नहीं करना चाहिए या अगर लोन का भुगतान करने में कोई देरी होती है, तो ब्याज और अधिक लगेगा. किसी भी व्यक्ति को कंपाउंड इंटरेस्ट का लाभ लेने के लिए, लोन के भुगतान की फ्रीक्वेंसी बढ़ाने पर ध्यान होना चाहिए. इससे आपको निर्धारित भुगतान से कम ब्याज का भुगतान करना होगा.

क्योंकि ब्याज-पर-ब्याज वाले ऑप्शन से शुरुआती मूल राशि के आधार पर अच्छा रिटर्न मिल सकता है, इसलिए कभी-कभी इसे कंपाउंड इंटरेस्ट पर स्नोफॉल इफेक्ट भी कहते हैं.

कंपाउंड इंटरेस्ट या चक्रवृद्धि ब्याज कैसे काम करता है?

How does Compound Interest Work ?

अगर आप अच्छा इन्वेस्टमेंट करते हैं, तो चक्रवृद्धि ब्याज से आपको समय के साथ अपनी राशि को बढ़ाने में मदद मिल सकती है. अगर आपके लोन पर चक्रवृद्धि ब्याज लग रहा है और आपने सही प्लानिंग नहीं की है, तो आपको फाइनेंशियल मुश्किल आ सकती है. चक्रवृद्धि ब्याज कैसे काम करता है यह समझने के लिए, आइए हम इस प्रोसेस को आसानी से समझें कि कैसे आपके इन्वेस्टमेंट पर बेहतर चक्रवृद्धि ब्याज मिल सकता है.

जब आपके इन्वेस्टमेंट पर ब्याज मिलने लगता है, तो चक्रवृद्धि ब्याज शुरू हो जाता है. इस समय, इन्वेस्टमेंट की शुरुआती राशि पर ब्याज जोड़ा जाता है. जब उसी पर आपको दोबारा ब्याज मिलता है, तो शुरुआत में इन्वेस्ट की गई पूंजी और प्राप्त ब्याज को कैलकुलेट करके नए प्राप्त ब्याज को निर्धारित किया जाएगा.

इन्वेस्टमेंट की राशि लगातार बढ़ती जाती है, इसलिए इन्वेस्टमेंट की कुल राशि पर ब्याज भी मिलता जाएगा. इस चक्र में बिना कोई अतिरिक्त पूंजी इन्वेस्ट किए आपका इन्वेस्टमेंट वाकई बढ़ता जाता है. समय के साथ-साथ, इस चक्र में आपके इन्वेस्टमेंट की मूल राशि में काफी बढ़ोतरी होने की संभावना होती है.

आपके कंपाउंड इंटरेस्ट से मिलने वाले रिटर्न पर इन दो कारकों का प्रभाव पड़ता है:

Time factor impact on your compound interest returns
समय

- आपको समय के साथ अपने इन्वेस्टमेंट को बढ़ने देना होगा, आप जितना अधिक समय देंगे, आपके इन्वेस्टमेंट में उतनी ही अधिक वृद्धि होगी.

rate of interest impact on compound interest returns
ब्याज दर

- उच्च ब्याज दर पर इन्वेस्टमेंट को कंपाउंड करने पर अधिक रिटर्न की प्राप्ति होती है.

आप विभिन्न परिस्थितियों और इन्वेस्टमेंट के तरीकों को ध्यान में रखते हुए और इससे आपके जीवन पर कैसा असर पड़ेगा, इस बात को भी समझते हुए आप अपने इन्वेस्टमेंट की प्राथमिकताओं और लक्ष्यों को निर्धारित कर सकते हैं.

मुद्दे की बात यह है कि अगर आप कंपाउंड ब्याज का लाभ ले सकते हैं, तो यह आपके इन्वेस्टमेंट प्लान और फाइनेंशियल लक्ष्यों के लिए शानदार परिणाम दे सकता है.

कंपाउंड इंटरेस्ट का फॉर्मूला और कंपाउंड इंटरेस्ट को कैलकुलेट करने के चरण

कंपाउंड इंटरेस्ट, आपके द्वारा इन्वेस्ट की गई राशि पर ब्याज प्राप्त करने का तरीका है. कंपाउंड इंटरेस्ट को कैलकुलेट करने के लिए, आपको पहले यह जानना होगा:

1

आपकी मूल इन्वेस्टमेंट राशि

2

आपके इन्वेस्टर द्वारा ऑफर की जाने वाली ब्याज दर

3

आपका ब्याज प्रति वर्ष कितनी बार कंपाउंड होता है

4

उन वर्षों की संख्या जब तक आप इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं

जब आपके पास ये ज़रूरी आंकड़े होंगे, तो आप यह तुरंत समझ पाएंगे कि कंपाउंड इंटरेस्ट का उपयोग करने वाले इन्वेस्टमेंट ऑप्शन से आप कितना कमा सकेंगे.

 

कंपाउंड इंटरेस्ट का फॉर्मूला यह है:A = P (1+r/n)nt

 

वैल्यू इस प्रकार हैं:

A = इन्वेस्टमेंट की भविष्य की वैल्यू

P = इन्वेस्ट की गई मूल राशि

r = ब्याज दर (दशमलव)

n = प्रति अवधि ब्याज के कंपाउंड होने की संख्या

t = पैसों के निवेश की अवधियों की संख्या

 

आइए देखें कि आप दिए गए फॉर्मूला का उपयोग करके चक्रवृद्धि ब्याज को कैसे कैलकुलेट कर सकते हैं. मान लेते हैं कि आपने 10 वर्षों के लिए ₹ 10,000 का इन्वेस्टमेंट किया है. आपको अपने इन्वेस्टमेंट पर 5% ब्याज मिलता है और आपका ब्याज हर साल कंपाउंड हो जाता है. तो, पहले वर्ष में आपको ₹ 10,000 के अपने इन्वेस्टमेंट पर ₹ 500 मिलते हैं. दूसरे वर्ष में, आपकी मूल राशि ₹10,500 हो जाती है. अब आपको अपनी नई मूलधन राशि पर ₹525 ब्याज मिलता है, तो अब आपके पास कुल 10,500 + 525 = 11,025 है. अगर आप ऊपर दिए गए फॉर्मूले का उपयोग करते हैं, तो आप तुरंत समझ सकते हैं कि दस वर्ष पूरे होने पर आपको कितनी राशि मिलेगी.

 

P = ₹10,000

r = 0.05

n = 1

t = 10

A = 10000 (1 + 0.05/1)10 = ₹ 16,288.95

 

इसलिए, आपके द्वारा अर्जित कुल ब्याज है: ₹ 16,288.95.

कंपाउंड इंटरेस्ट कैलकुलेटर का उपयोग कैसे करें?

How to use the Compound Interest Calculator?

अगर आप यह सोच रहे हैं कि आपको किस तरह की ब्याज दर की आवश्यकता है, तो आप हमारा यह कैलकुलेटर देख सकते हैं कंपाउंड इंटरेस्ट कैलकुलेटर. शुरू करने के लिए, आपको यह जानना होगा कि आपको पहले कितनी राशि इन्वेस्ट करनी है. दिए गए बॉक्स में इस नंबर को दर्ज करें. इसके बाद, अगर आप नियमित अंतराल पर अपने इन्वेस्टमेंट में और राशि जोड़ना चाहते हैं, तो आप ऐसा करने का भी ऑप्शन चुन सकते हैं. जो राशि आप जोड़ना चाहते हैं उसे टाइप करें और चुनें कि आप मासिक भुगतान करेंगे या वार्षिक भुगतान. इसके बाद, यह तय करें कि आप कितने वर्षों के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं. क्या आप 5 वर्ष, 10 वर्ष या 25 वर्षों के लिए नियमित भुगतान करेंगे?? आप या तो स्लाइडर मूव कर सकते हैं या बस दिए गए बॉक्स में वर्षों की संख्या डाल सकते हैं.

Check Compound Interest online

अपने इन्वेस्टमेंट में राशि डाल देने के बाद, आप लंबे समय तक उसे इन्वेस्टमेंट में रखने का ऑप्शन चुन सकते हैं. इसका मतलब यह है कि आपकी ब्याज, कंपाउंड होता रहेगा और समय के साथ-साथ आपकी राशि बढ़ती रहेगी. आप कितने वर्षों के लिए इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं, यह चुनने के बाद यह जरूरी है कि वह अवधि, आप जितने वर्षों के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं, उससे अधिक हो. याद रखें, आप या तो स्लाइडर को मूव कर सकते हैं या दिए गए बॉक्स में सीधे नंबर डाल सकते हैं. अगर आपको पता है कि इन्वेस्टमेंट की अवधि के अंत में आपको कितनी राशि चाहिए, तो आप पेज के दाईं ओर दिया गया ग्राफ देख सकते हैं. जैसे ही आप स्लाइडर की मदद से या बॉक्स में नंबर डालकर ब्याज दर बदलेंगे, आप देख सकेंगे कि अपनी इन्वेस्टमेंट अवधि के अंत में आपको कितनी राशि मिल सकती है.

इससे आपकी इन्वेस्टमेंट करने की क्षमताओं, आप कितने समय के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं और इन्वेस्टमेंट की अवधि के अंत में आपकी कितनी राशि मिल सकती है, आदि के आधार पर आपको यह स्पष्ट संकेत मिल जाएगा कि आपके लिए सबसे बेहतर ब्याज दर क्या है.

कंपाउंड इंटरेस्ट के लिए उदाहरण


आप एक आसान फॉर्मूले की मदद से चक्रवृद्धि ब्याज को कैलकुलेट कर सकते हैं. इसके लिए संख्या एक में वार्षिक ब्याज दर को जोड़कर कंपाउंडिंग की अवधि में से एक को घटा कर आने वाली वैल्यू को आपकी पहली मूल राशि से गुणा कर दिया जाता है. फिर आपके लोन की कुल शुरुआती राशि को केलकुलेशन के बाद आने वाली वैल्यू में से घटा दिया जाता है.

चक्रवृद्धि ब्याज = कुल मूलधन और भविष्य का ब्याज (या भविष्य की वैल्यू) में से वर्तमान मूलधन (या वर्तमान मूल्य) घटाना

कंपाउंड इंटरेस्ट = P [(1 + i) n – 1]

P मूलधन है, I ब्याज दर है, n कंपाउंडिंग अवधि की संख्या है.

5 वर्षों के लिए 12% रिटर्न की दर पर ₹ 1,00,000 के इन्वेस्टमेंट को वार्षिक रूप से कंपाउंड करने पर ₹ 1,76,234 मिलेंगे. नीचे दिए गए ग्राफ से हम देख सकते हैं कि 5 वर्षों में ₹ 1,00,000 का इन्वेस्टमेंट कैसे बढ़ गया है.

चक्रवृद्धि ब्याज में, ब्याज पर ब्याज मिलता है. इसलिए, इसमें पहले प्राप्त सभी ब्याज को ध्यान में रखा जाता है. और उस पर ब्याज दिया जाता है.

वर्ष

इन्वेस्टमेंट(₹)

ब्याज(₹)

मेच्योरिटी पर(₹)

1

₹ 1,00,000

₹ 12,000

₹ 112,000

2

₹ 1,12,000

₹ 13,440

₹ 125,440

3

₹ 1,25,440

₹ 15,052.8

₹ 1,40,492.8

4

₹ 1,40,492.8

₹ 16,859.14

₹ 1,57,351.9

5

₹ 1,57,351.9

₹ 18,882.2

₹ 1,76,234.2


यह जानकर कि चक्रवृद्धि ब्याज कैसे काम करता है और सही तरीके से इन्वेस्टमेंट करके, आप बहुत अधिक रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं.

साधारण ब्याज और कंपाउंड ब्याज के लिए कैलकुलेटर


ब्याज को कैलकुलेट करने के दो तरीके हैं - साधारण ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज. दोनों तरह के कैलकुलेशन के अपने लाभ हैं. आइए जानें कि साधारण ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज के कैलकुलेशन में क्या अंतर है:

साधारण ब्याज

कंपाउंड ब्याज

साधारण ब्याज में, आपको केवल इन्वेस्टमेंट की मूल राशि पर ब्याज मिलता है.

चक्रवृद्धि ब्याज में, आपको अपनी मूल राशि पर और पिछले मिले ब्याज पर भी ब्याज मिलता है.

आपका मूलधन वैसा ही रहता है

प्रत्येक कंपाउंडिंग अवधि के बाद मूलधन बदल जाता है

SI = (P x T x R)/100

CI = P (1+r/n)nt

साधारण ब्याज के लिए फॉर्मूला

कुछ इन्वेस्टमेंट विकल्पों में साधारण ब्याज लागू होता है. यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप सही निर्णय ले रहे हैं, आपको यह जानना चाहिए कि चक्रवृद्धि (कंपाउंड) और साधारण ब्याज की गणना कैसे की जाती है. आइए साधारण ब्याज के फॉर्मूला पर एक नज़र डालते हैं

 

SI = (P x T x R)/100

 

वैल्यू इस प्रकार हैं:
P = मुख्य राशि
T = वर्षों की संख्या
R = ब्याज दर

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1 दैनिक, मासिक और शुरुआती कंपाउंडिंग क्या होता है?

जब साधारण और चक्रवृद्धि ब्याज दोनों में से किसी एक को चुनने की बात आती है, तो हमेशा चक्रवृद्धि ब्याज को चुना जाता है. लेकिन, ऐसा एक तरीका है जिसकी मदद से आप चक्रवृद्धि ब्याज को अपने लिए और अधिक फायदेमंद बना सकते हैं. चक्रवृद्धि ब्याज देने वाले इन्वेस्टमेंट एवेन्यू को चुनते समय, आप यह भी देख सकते हैं कि अक्सर ब्याज को कैसे कंपाउंड किया जाता है. आप ऐसे प्लान चुन सकते हैं, जिसमें ब्याज हर दिन, मासिक, अर्धवार्षिक या वार्षिक रूप से जमा होता है. कंपाउंडिंग का फायदा तब अधिक होता है, जब कंपाउंडिंग अवधि छोटी होती है.

हम इसे एक उदाहरण के साथ बेहतर तरीके से समझ सकते हैं. मान लेते हैं कि श्रीमान A ने 7% की दर से मात्र 3 वर्षों के लिए ₹ 10,000 का इन्वेस्टमेंट किया है. अगर ब्याज को वार्षिक रूप से कंपाउंड किया जाता है, तो उन्हें 3 वर्ष पूरे होने पर ₹ 12,250 मिलेंगे. अगर कंपाउंडिंग अर्धवार्षिक आधार पर की गई थी, तो उन्हें ₹ 12,314 मिलेंगे और अगर मासिक आधार पर की गई थी, तो उन्हें ₹ 12,293 मिलेंगे.


आप हर दिन के हिसाब से ब्याज पाने का विकल्प भी चुन सकते हैं, इसका अर्थ है कि आपके ब्याज को हर दिन कंपाउंड किया जाएगा. इस प्रकार, आपके शुरुआती इन्वेस्टमेंट में जोड़े गए ब्याज के आधार पर आप हर दिन एक नई राशि कमाएंगे. चक्रवृद्धि ब्याज के इन्वेस्टमेंट से मिलने वाले लाभ को बढ़ाने के लिए, यह बहुत ज़रूरी है कि आप जितना जल्दी हो सके बचत करना शुरू कर दें. आपकी राशि जितनी अधिक बार कंपाउंड होगी और बढ़ेगी, आपको उतना अधिक लाभ होगा.

2 कंपाउंड इंटरेस्ट इन्वेस्टमेंट क्या होते हैं?

जब इन्वेस्टमेंट की बात आती है, तो ऐसा इन्वेस्टमेंट का ऐसा तरीका चुनना बेहतर होता है, जिसमें आप चक्रवृद्धि ब्याज का लाभ ले सकें. यह आपके रिटर्न को बढ़ाने का और अपनी राशि का अधिक से अधिक लाभ लेने का सबसे सही तरीका है.

आज इन्वेस्टमेंट के ऐसे कई अवसर हैं जहां आप ऐसे प्लान से बेनिफिट ले सकते हैं जिसमें नियमित अंतराल पर चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है. सबसे बुनियादी स्तर पर, बैंक में चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है. आपको हर 6 महीने में मिलने वाले ब्याज को आपकी बचत में जोड़ दिया जाता है, और अगले छह महीने के लिए, आप नई राशि पर ब्याज ले सकते हैं. लेकिन यह आपके फाइनेंशियल लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए पर्याप्त नहीं है.

म्यूचुअल फंड और यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIPs) दो सबसे आम इन्वेस्टमेंट हैं जो आपके पैसे को बढ़ाने के लिए चक्रवृद्धि ब्याज के फॉर्मूले का उपयोग करते हैं. इन्वेस्टमेंट के दोनों ही तरीके एक ही तरह काम करते हैं, बस मुख्य अंतर यह है कि ULIP में लाइफ कवर का अतिरिक्त बेनिफिट मिलता है. चक्रवृद्धि ब्याज वाले इन्वेस्टमेंट प्लान विशेषतौर पर आपके रिटायरमेंट के लिए आपके फाइनेंस को प्लान करने में मददगार होते हैं.

3 साधारण ब्याज और कंपाउंड ब्याज में क्या अंतर है?

साधारण ब्याज, किसी निश्चित अवधि के लिए उधार ली गई राशि पर लागू होता है. जबकि चक्रवृद्धि ब्याज तब लागू होता है जब ब्याज देय होता है, और उसे फिर से मूलधन में जोड़ दिया जाता है.

साधारण ब्याज और कंपाउंड ब्याज के बीच मुख्य अंतर नीचे बताए गए हैं:

तुलना का आधार

साधारण ब्याज

कंपाउंड ब्याज

अर्थ

यह कुल मूल राशि पर प्राप्त ब्याज है.

यह वह ब्याज है जो मूलधन और जमा ब्याज दोनों का % है.

लेंडर के लिए रिटर्न

साधारण ब्याज दर कम रिटर्न मिलता है.

उसकी तुलना में चक्रवृद्धि ब्याज दर पर बेहतर रिटर्न मिलता है.

प्रिंसिपल

साधारण ब्याज के लिए मूलधन स्थिर होता है.

अवधि के दौरान मिलने वाले ब्याज के कारण मूलधन बदलता रहता है.

वृद्धि

मूलधन और ब्याज में बढ़ोतरी स्थिर होती है.

मूलधन और ब्याज में तुरंत और तेजी से बढ़ोतरी होती है.

ब्याज लिया गया

ब्याज केवल मूलधन पर लिया जाता है.

मूल राशि पर और उस मूल राशि पर मिलने वाले ब्याज की राशि पर भी ब्याज दिया जाता है.

फॉर्मूला

P*R*P*R*N

  • P = मूलधन
  • R = दर
  • N = वर्षों की संख्या

 P * (1 + R) ^ NK

  • P = मूलधन
  • R = दर
  • N = वर्षों की संख्या
  • K = कंपाउंड किए जाने की संख्या

कैलकुलेशन

साधारण ब्याज के कैलकुलेशन को समझना बहुत आसान है.

कंपाउंड इंटरेस्ट का कैलकुलेशन थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसमें कंपाउंडिंग की अलग-अलग अवधि शामिल होती हैं.

जरूरी बातें

साधारण ब्याज तब बेहतर साबित होता है जब आप कार लोन या ऐसा कोई अन्य लोन लेते हैं जिनका कैलकुलेशन साधारण ब्याज दर पर किया जाता है.

जब बात इन्वेस्टमेंट की आती है, तो कंपाउंड ब्याज दर बेहतर होती है. क्योंकि इसमें इन्वेस्ट की गई राशि तेज़ी से बढ़ती है.

4 कंपाउंड इंटरेस्ट के फायदे

अगर आपको इस बात की चिंता है कि आप अपने बच्चे की एजुकेशन या रिटायरमेंट के लिए पर्याप्त बचत नहीं कर पा रहे हैं, तो क्यों न चक्रवृद्धि ब्याज वाले इन्वेस्टमेंट ऑप्शन को चुनें?? ऐसे ऑप्शन में इन्वेस्ट करने से आपको बेहतर रिटर्न मिलते हैं और कोई भी व्यक्ति नीचे दिए गए कई बेनिफिट का लाभ ले सकता है:.

  • आपने जो राशि बचाई है उस पर और उस राशि पर मिलने वाले ब्याज पर भी आप ब्याज का लाभ ले सकते हैं. उदाहरण के लिए, अगर आप 5% वार्षिक चक्रवृद्धि ब्याज दर पर ₹ 5000 इन्वेस्ट करते हैं, तो वर्ष के अंत में आपको ₹ 5,250 मिलेंगे. दूसरे वर्ष में, ब्याज को ₹ 5,250 पर कैलकुलेट किया जाएगा और उसके बाद से प्रत्येक वर्ष, जमा हुई राशि पर ब्याज का कैलकुलेशन और भुगतान किया जाएगा और आपकी इन्वेस्ट की गई राशि बढ़ती जाएगी.
  • जितने लंबे समय तक इन्वेस्ट की गई राशि पर चक्रवृद्धि ब्याज मिलता रहेगा, उतना अधिक फायदा आपको लंबे समय तक मिलता रहेगा. ब्याज दर में सिर्फ 1% का अंतर भी, इन्वेस्ट की गई राशि से होने वाले आपके बेनिफिट को बढ़ाएगा.
  • महंगाई के साथ-साथ सभी गुड्स और सर्विस की लागत भी धीरे-धीरे बढ़ती जाती है और इस वजह से पैसों की कीमत कम होती जाती है. चक्रवृद्धि ब्याज देने वाले इन्वेस्टमेंट ऑप्शन में पैसा इन्वेस्ट करने से महंगाई के नकारात्मक प्रभाव को कम किया जा सकता है.
  • अगर आप अच्छी तरह से पैसों को इन्वेस्ट नहीं कर पाते हैं, तो आप महंगाई का सामना नहीं कर पाएंगे. अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने और लंबे समय के लक्ष्यों को प्लान करने के लिए आपको पैसों की आवश्यकता होगी. इसलिए, चक्रवृद्धि ब्याज वाले ऑप्शन में पैसे इन्वेस्ट करना, लंबे समय के कैश मैनेजमेंट प्लान के लिए अच्छा साबित हो सकता है.

जीवन बीमा के बारे में सारी जानकारी यहां पाएं.

हम आपको जीवनभर के लिए सही इंश्योरेंस लेने का फैसला करने में मदद करते हैं.

Life Insurance Popular Search

लोकप्रिय खोजें

ARN: ED/01/22/27182-HI